Dehli India

जेल में बंद युवाओं के मुक़दमें रद्द कराने तथा सन्त शिरोमणि गुरु रविदास के गुरुघर के पुनर्निर्माण के लिए दिल्ली में जन्तर-मन्तर से तुग़लक़ाबाद तक मार्च.

*21 सितम्बर, सुबह 11 बजे जंतर-मंतर,दिल्ली पहुँचे*

जैसा कि आपको विदित ही है कि केंद्रीय सरकार के नकारेपन और दलित-विरोधी रवैए के चलते दिल्ली में गुरु रविदास महाराज के प्राचीन मंदिर को तोड़ दिया गया है. सैंकड़ों प्रदर्शनकारियों पर पंजाब, हरियाणा एवं दिल्ली में मुक़दमें दर्ज कर उन्हें जेल में डाला गया है. एक महीना बीतने के बावजूद प्रदर्शनकारियों से मुक़दमें वापस लेना तो दूर, उन्हें ज़मानत पर भी नहीं छोड़ा जा रहा है.
यह कोई पहला वाक़या नहीं है. इससे पहले वह एससी/एसटी ऐक्ट के बारे में ऐसा कर चुकी है.
शनिवार, 21 सितम्बर को दिल्ली के जन्तर-मन्तर पर एकत्रित होकर सभी लोग संत समाज के नेतृत्व में तुग़लक़ाबाद मार्च करेंगे.
इस आह्वान में आपसे निवेदन है कि आप भारी संख्या में दिल्ली पहुँचें.
दलित समाज की आन-बान और सम्मान के लिए संत शिरोमणि गुरु रविदास महाराज का गुरुघर वहीं पर बनाए जाने और जेल में बंद सभी युवाओं को रिहा कराने और उनपर से मुक़दमों की वापसी के लिए शनिवार, 21 सितम्बर की सुबह 11 बजे से दिल्ली के जंतर मंतर पर सभी साथियों से एकत्रित होने का आह्वान है.

दिल्ली आने में असमर्थ साथियों से निवेदन
यदि आप किसी भी वजह से दिल्ली में होने वाले तुग़लक़ाबाद मार्च में हिस्सा लेने में असमर्थ हैं, तो आप अपने-अपने राज्य, जिले और ब्लाक में शांति पूर्ण तरीक़े से सांकेतिक तुग़लक़ाबाद मार्च कर प्रशासन को ज्ञापन देकर संत शिरोमणि गुरु रविदास महाराज के गुरुघर को उसके मूल स्थान पर बनाए जाने और जेल में बंद सभी साथियों की रिहाई की माँग करें.
सबसे निवेदन है कि हमें संवैधानिक अधिकारों और परम्पराओं का पालन करते हुए, सम्पूर्ण आंदोलन को शांति पूर्वक करना है.
हिंसा के लिए उकसाने वालों या भड़काऊ बयान देने वालों के झाँसे में ना आएँ.

इस मेसेज को आगे और आगे तब तक फ़ॉर्वर्ड करते रहें, जब तक हरेक व्यक्ति के पास यह मेसेज ना पहुँच जाए.

*संत सुखदेव वाघमारे*
883-0645108
*संत बीरसिंह हितकारी*
7497883551
**अशोक भारती*
9810418008
*राकेश बहादुर*
8570000823
*रीना वाल्मीकि*
9728626234
*सत्यवान सरोहा*
8908188088
*अमरीक सिॅह बंगड*
9888801181

About the author

Samta Awaz

Add Comment

Click here to post a comment