India Politics

….Afreen Fatima की जीत की जश्न में BAPSA….JNU

भारतीय राजनीति में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी लगभग न के बराबर हैं इसके लिए पुरुषवादी मकड़जाल जिम्मेदार है जिसके कारणों में कुछ लोगों के द्वारा मुस्लिम समुदाय के प्रति नफ़रत की भावना को पैदा करना भी रहा है। ऐसे में AFREEN FATIMA की जीत उस असमानतावादी समाज को खारिज़ करता है जो फ़ातिमा जैसी करोड़ों लड़कियों की तरक़्क़ी में रुकावट है। फ़ातिमा उसी दिन चुनाव जीत गई थी जिस दिन नामांकन भरी थी। क्योंकि ऐसे दौर में जब मुस्लिम समुदाय के प्रति नफरत का ज़हर घोला जा रहा है तो ऐसे में चुनाव लड़ने की हिम्मत ही अपने आप में बग़ावत की बुलंद आवाज़ है। फ़ातिमा की जीत हम सब की जीत है।
इस जीत में शामिल सभी लोगों के प्यार और स्पोर्ट का शुक्रिया …जय सावित्री जय फ़ातिमा जय भीम हूल जोहार

….Afreen Fatima की जीत की जश्न में BAPSA….

About the author

Samta Awaz

Add Comment

Click here to post a comment