bihar Politics World

दलित समाज की छात्रा अंबेडकर जी को पढ़ रही है , अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतर कर लड़ रही है। छात्रवृति आंदोलन में छात्राओं की भागीदारी महत्वपूर्ण रही, जिसका सारा श्रेय Pratimakumari Paswan जी एवं साजिया जी सुधा बहन को जाता है ।

दलित समाज की छात्रा अंबेडकर जी को पढ़ रही है , अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतर कर लड़ रही है। छात्रवृति आंदोलन में छात्राओं की भागीदारी महत्वपूर्ण रही, जिसका सारा श्रेय Pratimakumari Paswan जी एवं साजिया जी सुधा बहन को जाता है ।

प्रतिमा जी गरीब घरों की दलित छात्राओं को कैडर के माध्यम से आत्मनिर्भर एवं शैक्षणिक रूप से जागरूक की हैं।

बिहार के बड़े बड़े आईएएस(IAS), आईपीएस(IPS) डॉ, इंजीनिअर एवं कर्मचारियों का बेटा बेटी आरक्षण का लाभ लेकर बड़े बड़े पदों पर जा रहे है ,मगर आरक्षण के लिए या संवैधानिक अधिकारों की लड़ाई में कभी भी भाग नहीं लेते है , ना ही समाज के गरीब लोगों की मदद करते है । बड़े बड़े सेमिनारो में लम्बा लम्बा भाषण जरूर देते है अंबेडकर जी का पाठ तो ऐसे पढ़ाते है जैसे उनसे बड़ा अम्बेडकरवादी कोई हैं ही नहीँ?

गिने चुने ही पदाधिकारी, डॉ, समाजिक कार्य एवं आंदोलन में मदद करते है।